♦इस खबर को आगे शेयर जरूर करें ♦

सहारनपुर: वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सहारनपुर आकाश तोमर के सख्त एक्शन के चलते अपराधियों में भारी खलबली

[simple-author-box]

रिपोर्ट: शुभम मित्तल (ब्यूरो, सहारनपुर)

 

सहारनपुर। बात सरसावा थाने की हो या फिर नागल थाने की, पुलिस की सख्त कार्रवाई के चलते नवम्बर माह में हुई 203 कुख्यात अपराधियों की गिरफ्तारी के बाद अपराधियों में जबरदस्त खौफ देखने को मिला है।

एसएसपी आकाश तोमर ने एक साक्षात्कार में बताया कि अपराधी या तो जेल के अन्दर हैं या चौकी-थानों में सरेंडर कर रहे हैं

थाना सरसावा,नागल एवम देहात कोतवाली में कुख्यात अपराधी कर चुके हैं सरेंडर

 

आपको बता दें,कि वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक के सख्त एक्शन के चलते जनपद पुलिस द्वारा किस प्रकार शातिर अपराधियों की गिरफ्तारी की जा रही है, इसका सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है।एसएसपी के कड़े निर्देश पर अब तक नशा कारोबारियों से लेकर चोरों एवम लूटेरों तक पर पुलिस की कई बड़ी कार्रवाई हो चुकी है।एसएसपी के एक्शन का खोफ बदमाशों पर इस कदर छाया हुआ है,कि या तो शातिर अपराधी अपनी जमानतें तुड़वाकर जेलों में ही रहने में अपनी भलाई समझ रहे हैं,या फिर चौकी थानों में अपने हाथ खड़े कर सरेंडर कर रहै है। पुलिस का ऐसा ही एक खोफ हमें सरसावा थाने में भी देखने को मिला था,जहां के थाना प्रभारी धर्मेन्द्र सिंह द्वारा अपराधियों के खिलाफ चलाए जा रहे पकडा-धकडी अभियान के तहत नशे के कारोबार में डूबे एक गांव के कई नशा कारोबारियों ने थाने में पहुंचकर सरेंडर कर कभी भी अपराध ना करने की कसम खाई थी, इतना ही नहीं नागल थाना प्रभारी बीनू सिंह की अपराधियों पर लगातार कार्रवाई के चलते एक कुख्यात बदमाश ने थाना नागल में ही सरेंडर कर कभी अपराध ना करने की कसम खाई थी। इसके अलावा थाना देहात कोतवाली पुलिस के समक्ष भी एक शराब माफिया दम्पत्ति ने भी सरेंडर कर सादगी की जिंदगी जीने की कसम खाई थी। हम आपको यह भी बता दें,कि वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आकाश तोमर के सख्त एक्शन के चलते एवम जनपद पुलिस की जबरदस्त कार्रवाई के खोफ से अपराधी स्वम ही अपनी जमानतें तुड़वाकर खुद को जेलों में ही रहना सुरक्षित महसूस कर रहे है।इधर आज वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक सहारनपुर आकाश तोमर का स्वयं का भी कहना है, कि पुलिस की लगातार कार्रवाई के चलते अपराधी या तो जेलों में ही रहकर खुद को सुरक्षित महसूस कर रहे है,या फिर चौकी थानों में आत्मसमर्पण कर रहे हैं।उन्होंने कहा,कि एक गौ-तस्कर भी थाने आत्मसमर्पण कर चुका है।

व्हाट्सप्प आइकान को दबा कर इस खबर को शेयर जरूर करें




स्वतंत्र और सच्ची पत्रकारिता के लिए ज़रूरी है कि वो कॉरपोरेट और राजनैतिक नियंत्रण से मुक्त हो। ऐसा तभी संभव है जब जनता आगे आए और सहयोग करे


जवाब जरूर दे 

आप अपने सहर के वर्तमान बिधायक के कार्यों से कितना संतुष्ट है ?

View Results

Loading ... Loading ...


Related Articles

Close
Close
Website Design By Bootalpha.com +91 82529 92275